Due to Jet Airways Crisis Air Fare Gone Up

Due to the sudden cancellation of flights, the space for passengers in the ships started to fall, due to which the air fare increased overnight. Tickets for some hours prior to flight for routes like Mumbai-Delhi, Mumbai-Bangalore, Mumbai-Kolkata and Mumbai-Chennai have doubled compared to the same time last year. For all the Mumbai-Chennai tickets, the rent of all the companies increased to Rs. 26,073 against the previous year's Rs. 5,369. EcoGogo CEO and Co-Founder Alok Bajpai told the Mumbai Mirror, "With the Holi as well as summer holidays approaching, the prices of air tickets will continue to increase."

Hitting Passengers
Due to lack of lease rent, Jet Airways  ties have to be removed from their 23 aircraft service in March alone. The result of this is the loss of air travelers. Now, any company has to spend Rs 15,518 on the journey of Mumbai-Delhi flight, whereas in March last year, the ticket was worth 6,577 rupees. Similarly, instead of Rs 5,369 for the Mumbai-Chennai trip, Rs 26,000 is now being replaced, while for Mumbai-Bangalore, Rs 2,600 is being charged for Rs 16,000.

Will Etihad fly out of the Jet Airways   completely?


On the other hand, Etihad, partner of Jet Airways   Airways, offered to share its full share, responsibility of foreign debt and 49% share of Jet Airways   Privilege to SBI. Etihad on Tuesday asked State Bank of India (SBI) to buy his stake in this airline. Abu Dhabi's airline Etihad has about 24% share in the Jet Airways  . Etihad has been shouting on Jet Airways  's involvement in the negotiations related to the removal of financial problems. He gave his decision to SBI on Monday in a meeting.

Jet Airways   
People familiar with the matter said that Etihad has offered to fully exit the Jet Airways  . He said that Jet Airways   wants SBI to buy his stake and take the responsibility of AT & T on the debt taken from Jet Airways  s HSBC as a guarantee on which the responsibility (Etihad) is made. Etihad has also offered 49% of its share in Jet Airways   Privilege to SBI.

Ball in sbi's surname
A source said, "Etihad wants to get out of Jet Airways   Airways altogether. Now the decision is to be done by SBI. ' It is believed that Etihad CEO Tony Douglas discussed it with SBI chairman Rajneesh Kumar on Monday. When contacted, Etihad reiterated the old statement and said that he is working closely with Jet Airways   Airways. "As a minority shareholder, Etihad is working with lending institutions, companies and key shareholders to overcome the problems of Jet Airways   Airways," he said in a statement. The group of SBI-led banks is meeting in Mumbai for the latest developments and next plan for the airline.

Why the Jet Airways   Crisis?
Jet Airways  's decision to exit Jet Airways  , and Jet Airways   Chairman Naresh Goyal and the bankers have not been able to discuss the resolution plan, Jet Airways   has become critical of Jet Airways  . According to the draft of the MoU, Etihad was expected to impose an amount of Rs 1,600-1,800 crore in exchange for 29.4 percent stake. Getting 25% steak is necessary to get an open offer. Lenders had to invest Rs 1,000 crore and take 29.5 percent stake in Jet Airways  . Rs 450 crore coming from Goyal will be converted into equity. Goyal has invested Rs 250 crore and will have close to 17 percent share, and according to the proposed condition, his share will never be more than 22 percent.



Due to the sudden cancellation of flights, the space for passengers in the ships started to fall, due to which the air fare increased overnight. Tickets for some hours prior to flight for routes like Mumbai-Delhi, Mumbai-Bangalore, Mumbai-Kolkata and Mumbai-Chennai have doubled compared to the same time last year. For all the Mumbai-Chennai tickets, the rent of all the companies increased to Rs. 26,073 against the previous year's Rs. 5,369. EcoGogo CEO and Co-Founder Alok Bajpai told the Mumbai Mirror, "With the Holi as well as summer holidays approaching, the prices of air tickets will continue to increase."

Hitting passengers
Due to lack of lease rent, Jet Airways  ties have to be removed from their 23 aircraft service in March alone. The result of this is the loss of air travelers. Now, any company has to spend Rs 15,518 on the journey of Mumbai-Delhi flight, whereas in March last year, the ticket was worth 6,577 rupees. Similarly, instead of Rs 5,369 for the Mumbai-Chennai trip, Rs 26,000 is now being replaced, while for Mumbai-Bangalore, Rs 2,600 is being charged for Rs 16,000.

Will Etihad fly out of the Jet Airways   completely?
On the other hand, Etihad, partner of Jet Airways   Airways, offered to share its full share, responsibility of foreign debt and 49% share of Jet Airways   Privilege to SBI. Etihad on Tuesday asked State Bank of India (SBI) to buy his stake in this airline. Abu Dhabi's airline Etihad has about 24% share in the Jet Airways  . Etihad has been shouting on Jet Airways  's involvement in the negotiations related to the removal of financial problems. He gave his decision to SBI on Monday in a meeting.


Payments :  

Only By Google Pay  [ Its very Simple to Join ]
Join  Google Pay, a payments app by Google. 

Enter our Code :   59wc92 

and then Get a payment. 
Click here

Enter   Code  59wc92

Use PhonePe for instant bank transfers & more! 
Get a scratch card up to ₹1000 on your first money transfer on 
#PhonePe. 

Use  link -  

 https://phon.pe/ru_chanmwh54


Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India (Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India)



अचानक रद्द ही उड़ानों के कारण जहाजों में यात्रियों के लिए जगह कम पड़ने लगे, इस वजह से हवाई किराया रातोंरात बढ़ गया। मुंबई-दिल्ली, मुंबई-बेंगलुरु, मुंबई-कोलकाता और मुंबई-चेन्नै जैसे रूटों के लिए उड़ान से कुछ घंटे पहले के टिकटों के दाम पिछले वर्ष इसी वक्त के मुकाबले दोगुने हो गए। मुंबई-चेन्नै टिकट के लिए सभी कंपनियों का किराया पिछले वर्ष के 5,369 रुपये के मुकाबले बढ़कर 26,073 रुपये हो गया। इक्सिगो के सीईओ और को-फाउंडर आलोक बाजपेयी ने मुंबई मिरर से कहा, 'होली के साथ-साथ गरमी की छुट्टियां करीब आने के कारण हवाई टिकटों के दाम बढ़े रहेंगे।' 

यात्रियों पर मार 

लीज का किराया नहीं दे पाने के कारण जेट को सिर्फ मार्च महीने में अपने 20 एयरक्राफ्ट सेवा से हटाने पड़े। इसका परिणाम हवाई यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। अब किसी भी कंपनी के विमान से मुंबई-दिल्ली की यात्रा पर 15,518 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं जबकि पिछले वर्ष मार्च में 6,577 रुपये का ही टिकट लग रहा था। इसी तरह, मुंबई-चेन्नै की यात्रा के लिए 5,369 रुपये की जगह अब 26,000 रुपये जबकि मुंबई-बेंगलुरु के लिए 2,600 रुपये की जगह 16,000 रुपये वसूले जा रहे हैं। 

जेट से पूरी तरह निकलेगी एतिहाद? 

उधर, जेट एयरवेज की पार्टनर एतिहाद ने अपना पूरा हिस्सा, विदेशी कर्ज से जुड़ी जिम्मेदारी और जेट प्रिविलेज में 49% हिस्सा SBI के हवाले करने की पेशकश की। एतिहाद ने मंगलवार को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) से कहा कि वह इस एयरलाइन में उसका स्टेक खरीद ले। अबू धाबी की एयरलाइन एतिहाद का जेट में करीब 24% हिस्सा है। एतिहाद जेट की वित्तीय परेशानियां दूर करने से जुड़ी बातचीत में शामिल होने से कतराती रही है। उसने सोमवार को एक मीटिंग में अपने निर्णय की जानकारी एसबीआई को दी थी। 

जेट की चाहत 

मामले से वाकिफ लोगों ने बताया कि एतिहाद ने जेट से पूरी तरह एग्जिट करने का ऑफर दिया है। उन्होंने बताया कि जेट चाहती है कि एसबीआई उसका स्टेक खरीद ले और जेट के एचएसबीसी से लिए गए कर्ज पर गारंटी के रूप में जो जिम्मेदारी उस पर (एतिहाद) बनती है, वह भी एसबीआई अपने कंधों पर ले ले। एतिहाद ने जेट प्रिविलेज में अपना 49 प्रतिशत हिस्सा भी एसबीआई को ऑफर किया है। 

SBI के पाले में गेंद 

एक सूत्र ने बताया, 'एतिहाद जेट एयरवेज से पूरी तरह निकलना चाहती है। अब निर्णय एसबीआई को करना है।' माना जा रहा है कि एतिहाद के सीईओ टोनी डगलस ने सोमवार को इस पर एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार से चर्चा की थी। संपर्क किए जाने पर एतिहाद ने पुराना बयान दोहराया और कहा कि वह जेट एयरवेज के साथ मिलकर काम कर रही है। उसने एक बयान में कहा, 'माइनॉरिटी शेयरहोल्डर के रूप में एतिहाद कर्ज देने वाले भारतीय संस्थानों, कंपनी और अहम शेयरहोल्डर्स के साथ काम कर रही है ताकि जेट एयरवेज की परेशानी दूर की जा सके।' एसबीआई की अगुवाई वाला बैंकों का समूह ताजा घटनाक्रम और एयरलाइन के लिए आगे का प्लान तय करने पर मुंबई में मीटिंग कर रहा है। 

क्यों बढ़ रहा जेट का संकट? 

जेट से बाहर निकलने के एतिहाद के निर्णय और जेट के चेयरमैन नरेश गोयल एवं बैंकरों की ओर से पेश रेजॉलुशन प्लान पर बात नहीं बनने से जेट की मुश्किल नाजुक हो गई है। सहमति पत्र के मसौदे के अनुसार एतिहाद से 29.4 प्रतिशत स्टेक के बदले 1,600-1,900 करोड़ रुपये लगाने की उम्मीद की गई थी। 25 प्रतिशत स्टेक होने पर ओपन ऑफर लाना जरूरी हो जाता है। लेंडर्स को 1,000 करोड़ रुपये लगाने थे और जेट में 29.5 प्रतिशत स्टेक लेना था। गोयल की ओर से आने वाले 450 करोड़ रुपये को इक्विटी में बदला जाएगा। गोयल इसमें 250 करोड़ लगा चुके हैं और उनके पास करीब 17 प्रतिशत हिस्सा रहेगा और प्रस्तावित शर्त के मुताबिक कभी भी उनका हिस्सा 22 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होगा। 

अचानक रद्द ही उड़ानों के कारण जहाजों में यात्रियों के लिए जगह कम पड़ने लगे, इस वजह से हवाई किराया रातोंरात बढ़ गया। मुंबई-दिल्ली, मुंबई-बेंगलुरु, मुंबई-कोलकाता और मुंबई-चेन्नै जैसे रूटों के लिए उड़ान से कुछ घंटे पहले के टिकटों के दाम पिछले वर्ष इसी वक्त के मुकाबले दोगुने हो गए। मुंबई-चेन्नै टिकट के लिए सभी कंपनियों का किराया पिछले वर्ष के 5,369 रुपये के मुकाबले बढ़कर 26,073 रुपये हो गया। इक्सिगो के सीईओ और को-फाउंडर आलोक बाजपेयी ने मुंबई मिरर से कहा, 'होली के साथ-साथ गरमी की छुट्टियां करीब आने के कारण हवाई टिकटों के दाम बढ़े रहेंगे।' 

यात्रियों पर मार 

लीज का किराया नहीं दे पाने के कारण जेट को सिर्फ मार्च महीने में अपने 23 एयरक्राफ्ट सेवा से हटाने पड़े। इसका परिणाम हवाई यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। अब किसी भी कंपनी के विमान से मुंबई-दिल्ली की यात्रा पर 15,518 रुपये खर्च करने पड़ रहे हैं जबकि पिछले वर्ष मार्च में 6,577 रुपये का ही टिकट लग रहा था। इसी तरह, मुंबई-चेन्नै की यात्रा के लिए 5,369 रुपये की जगह अब 26,000 रुपये जबकि मुंबई-बेंगलुरु के लिए 2,600 रुपये की जगह 16,000 रुपये वसूले जा रहे हैं। 

जेट से पूरी तरह निकलेगी एतिहाद? 
उधर, जेट एयरवेज की पार्टनर एतिहाद ने अपना पूरा हिस्सा, विदेशी कर्ज से जुड़ी जिम्मेदारी और जेट प्रिविलेज में 49% हिस्सा SBI के हवाले करने की पेशकश की। एतिहाद ने मंगलवार को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) से कहा कि वह इस एयरलाइन में उसका स्टेक खरीद ले। अबू धाबी की एयरलाइन एतिहाद का जेट में करीब 24% हिस्सा है। एतिहाद जेट की वित्तीय परेशानियां दूर करने से जुड़ी बातचीत में शामिल होने से कतराती रही है। उसने सोमवार को एक मीटिंग में अपने निर्णय की जानकारी एसबीआई को दी थी। 

जेट की चाहत 
मामले से वाकिफ लोगों ने बताया कि एतिहाद ने जेट से पूरी तरह एग्जिट करने का ऑफर दिया है। उन्होंने बताया कि जेट चाहती है कि एसबीआई उसका स्टेक खरीद ले और जेट के एचएसबीसी से लिए गए कर्ज पर गारंटी के रूप में जो जिम्मेदारी उस पर (एतिहाद) बनती है, वह भी एसबीआई अपने कंधों पर ले ले। एतिहाद ने जेट प्रिविलेज में अपना 49 प्रतिशत हिस्सा भी एसबीआई को ऑफर किया है। 

SBI के पाले में गेंद 
एक सूत्र ने बताया, 'एतिहाद जेट एयरवेज से पूरी तरह निकलना चाहती है। अब निर्णय एसबीआई को करना है।' माना जा रहा है कि एतिहाद के सीईओ टोनी डगलस ने सोमवार को इस पर एसबीआई चेयरमैन रजनीश कुमार से चर्चा की थी। संपर्क किए जाने पर एतिहाद ने पुराना बयान दोहराया और कहा कि वह जेट एयरवेज के साथ मिलकर काम कर रही है। उसने एक बयान में कहा, 'माइनॉरिटी शेयरहोल्डर के रूप में एतिहाद कर्ज देने वाले भारतीय संस्थानों, कंपनी और अहम शेयरहोल्डर्स के साथ काम कर रही है ताकि जेट एयरवेज की परेशानी दूर की जा सके।' एसबीआई की अगुवाई वाला बैंकों का समूह ताजा घटनाक्रम और एयरलाइन के लिए आगे का प्लान तय करने पर मुंबई में मीटिंग कर रहा है। 

क्यों बढ़ रहा जेट का संकट? 
जेट से बाहर निकलने के एतिहाद के निर्णय और जेट के चेयरमैन नरेश गोयल एवं बैंकरों की ओर से पेश रेजॉलुशन प्लान पर बात नहीं बनने से जेट की मुश्किल नाजुक हो गई है। सहमति पत्र के मसौदे के अनुसार एतिहाद से 29.4 प्रतिशत स्टेक के बदले 1,600-1,900 करोड़ रुपये लगाने की उम्मीद की गई थी। 25 प्रतिशत स्टेक होने पर ओपन ऑफर लाना जरूरी हो जाता है। लेंडर्स को 1,000 करोड़ रुपये लगाने थे और जेट में 29.5 प्रतिशत स्टेक लेना था। गोयल की ओर से आने वाले 450 करोड़ रुपये को इक्विटी में बदला जाएगा। गोयल इसमें 250 करोड़ लगा चुके हैं और उनके पास करीब 17 प्रतिशत हिस्सा रहेगा और प्रस्तावित शर्त के मुताबिक कभी भी उनका हिस्सा 22 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होगा। 


Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India (Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India)

















Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India (Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India)




#Jet Airways Airways #Ethiopian #Etihad #Jet Airways #Airways #Naresh #Goyal #Kingfisher #Airline #Indigo #Pilots #SpiceJet Airways #Planes #AirIndia #GoAir #roster #Meta #Tag #Building #BackLinks #Jet Airways Airways I Ltd #Airways #Crisis #Airways #financial #turmoil #Pilots, #AMEs #Employees, #Airlines. #AeroSoft.in #Article #Submissions, #Blog #Submissions, #Social #BookMarking, #Directory #Classified #Guest #Blogging, #Yahoo #Search #Engines #Submission #Google, #Yahoo, #Bing #Directory #Submission #Articlesubmission, #Jet Airways Airways I Ltd #Airways #Crisis #Airways #financial #turmoil #Pilots, #AMEs #Employees, #Airlines. Digital Marketing Executive www.AirCrewsAviation.com www.Air-Aviator.com www.AlfaBloggers.com www.AllAirlineNews.com www.AlfaTravelBlog.com www.Flying-Crews.com www.Portrait-Business-Woman.com www.BestInterTIOLEducation.com www.SatpuraJungleRetreat.com www.WorldOfAirplane.com www.AsiaBlogAward.com www.Fintech-Start-Up.com www.AnxietyAttak.com www.A1-Cabs.co.in www.GuideByLocal.com

Comments

Popular posts from this blog

Jet Airways India Limited Be Ready for A Bigger Crisis then Kingfisher Airline Ltd जेट एयरवेज इंडिया लिमिटेड एक बड़ा संकट के लिए तैयार रहें

Work at Home Packages at Aircrews Aviation Pvt Ltd

Apply